-- विज्ञापन --
होम समाचार डेनमार्क ओपन: क्वार्टर फाइनल में पहुंची साइना नेहवाल

डेनमार्क ओपन: क्वार्टर फाइनल में पहुंची साइना नेहवाल

-- विज्ञापन --

भारत के इक्का बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल पराजित जापान की अकाने यामागुची। अकाने, जो वर्तमान में दुनिया में दूसरे नंबर पर हैं, साइना से 2-21, 15-21 से हार गए। साइना अब डेनमार्क के ओडेंस में आयोजित डेनमार्क ओपन बीडब्ल्यूएफ वर्ल्ड टूर सुपर 17 टूर्नामेंट के क्वार्टर फाइनल में पहुंच गई है।

-- विज्ञापन --

यह भारत के लिए कोई साधारण जीत नहीं है, यह पिछले चार वर्षों में जापानियों पर साइना की पहली जीत थी। सानिया ने आखिरी बार अकाने पर 2014 में चाइना ओपन में जीत हासिल की थी। यह एक राहत भरी जीत है क्योंकि भारतीय शटलर डेनमार्क ओपन से पहले यामागुची से लगातार 6 बार हार गई थी!

स्रोत: dnaindia

अन्य भारतीय खिलाड़ियों से अच्छी खबर

टूर्नामेंट के अन्य हिस्सों से अच्छी खबर आई क्योंकि समीर वर्मा ने इंडोनेशियाई खिलाड़ी जोनाथन क्रिस्टी के खिलाफ 23-21, 6-21, 22-20 के साथ एक और जीत हासिल की। यह मैच 70 मिनट तक चला। वर्मा इस साल बेहतरीन फॉर्म में हैं। उन्होंने वर्ल्ड नं. 2 शी युकी ने पहले दौर में और फिर दुनिया को हरा दिया। 13, क्रिस्टी ने क्वार्टर फाइनल में अपनी जगह बनाई।

-- विज्ञापन --

अश्विनी पोनप्पा और सिक्की रेड्डी की जोड़ी ने दक्षिण कोरियाई जोड़ी सो हे ली और सेउंग चान शिन के खिलाफ 18-21, 22-20, 21-18 के साथ शानदार वापसी की। उनका खेल 61 मिनट तक चला। हालांकि पहला गेम कोरियाई पक्ष में था। भारतीय खिलाड़ियों ने दूसरा गेम जीतकर वापसी की। निर्णायक खेल अंतत: 21-18 से जीता गया और क्वार्टर फाइनल में पहुंचा। 

-- विज्ञापन --
विज्ञापन
विज्ञापन

विश्व नं। 8, किदांबी श्रीकांत चीनी शटलर लिन डैन पर 18 घंटे 21 मिनट में 21-17, 21-16, 1-3 से जीत दर्ज की। क्वार्टर में किदांबी का सामना अपने साथी भारतीय समीर वर्मा से होगा।

साथ में पीवी सिंधुटूर्नामेंट से पहले दौर में जल्दी बाहर होने के बाद भी हमारे पास भारत की उम्मीदों को ऊंचा रखने वाले संभावित खिलाड़ी हैं। 

क्वार्टर फाइनल में अब साइना नेहवाल का सामना जापान की नोजोमी ओकुहारा से होगा।

-- विज्ञापन --
अमृता क्रीडऑन में कंटेंट राइटर/एडिटर और सोशल मीडिया मैनेजर हैं। अमृता वेबसाइट के कंटेंट क्रिएशन और मार्केटिंग का काम देखती हैं। खेलों के प्रति उनके प्यार ने उन्हें इस संगठन में शामिल किया, जहां उनका इरादा हर एथलीट को वह पहचान दिलाने में मदद करना है जिसके वे अपने पेशे के माध्यम से हकदार हैं। अमृता ने लिखना शुरू किया जब उसकी नोटबुक के पीछे केवल स्केचिंग कार्टून एक स्कूल पास आउट के लिए थोड़ा अस्पष्ट लग रहा था।

कोई टिप्पणी नहीं

उत्तर छोड़ दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहां दर्ज करें

मोबाइल संस्करण से बाहर निकलें